July 19, 2024
white digital device beside white pen

यूके मेडिकल जर्नल ‘लैंसेट’ में प्रकाशित आईसीएमआर की रिपोर्ट के मुताबिक इस समय भारत में 101 मिलियन से अधिक लोग डायबिटीज(Diabetes) के शिकार हो चुके हैं. जबकि साल 2019 में यह आंकड़ा 70 मिलियन के करीब था. रिपोर्ट में बताया गया कि कुछ राज्यों में आंकड़े स्थिर हो गए हैं. वहीं कई राज्यों में तेजी से बढ़ रहे हैं. स्टडी में बताया गया है कि जिन राज्यों में तेजी से डायबिटीज(Diabetes) के मामले बढ़ रहे हैं, वहां इसे रोकने की बहुत जरूरत है.

देश के 15 फीसदी लोग प्री-डायबिटीज(Diabetes) के मरीज

रिपोर्ट के मुताबिक स्टडी में बताया गया है कि कम से कम 136 मिलियन लोग, यानी कि 15.3 फीसदी लोग आबादी को प्रीडायबिटीज है. गोवा (26.4%), पुडुचेरी (26.3%) और केरल (25.5%) में डायबिटीज(Diabetes) का सबसे उच्चतम प्रसार देखा गया. डायबिटीज(Diabetes) का राष्ट्रीय औसत 11.4 फीसदी है. हालांकि स्टडी अगले कुछ वर्षों में यूपी, एमपी, बिहार और अरुणाचल प्रदेश जैसे कम प्रसार वाले राज्यों में डायबिटीज(Diabetes) के मामलों के विस्फोट की चेतावनी देता है.



यूपी में प्री-डायबिटीक के मरीज ज्यादा

मद्रास डायबिटीज (Diabetes) रिसर्च फाउंडेशन के अध्यक्ष और अध्ययन के पहले लेखक डॉ रंजीत मोहन अंजना ने कहा, “गोवा, केरल, तमिलनाडु और चंडीगढ़ में मधुमेह के मामलों की तुलना में प्री-डायबिटीज के मामले कम हैं. पुडुचेरी और दिल्ली में, वे लगभग बराबर हैं और इसलिए हम कह सकते हैं कि बीमारी स्थिर हो रही है.” लेकिन मधुमेह (Diabetes) के कम मामलों वाले राज्यों में, वैज्ञानिकों ने प्री-डायबिटीज वाले लोगों की संख्या अधिक दर्ज की है. उदाहरण के लिए, यूपी में मधुमेह का प्रसार 4.8% है, जो देश में सबसे कम है, लेकिन राष्ट्रीय औसत 15.3% की तुलना में 18% प्री-डायबिटिक हैं.

Table 1: Article Outline
1. Introduction
2. What is Diabetes?
3. Types of Diabetes
4. Common Symptoms of Diabetes
5. Risk Factors for Diabetes
6. Prevention and Lifestyle Changes
7. Healthy Diet for Diabetes
8. Regular Exercise
9. Importance of Blood Sugar Monitoring
10. Medications for Diabetes
11. Alternative Therapies for Diabetes
12. Complications of Diabetes
13. Diabetes and Mental Health
14. Diabetes in Children
15. Conclusion
Table 2: Article
डायबिटीज के लक्षण और रोकथाम

डायबिटीज (Diabetes) के लक्षण और रोकथाम

Introduction

डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है जो व्यक्ति के शरीर में खून में शरीर के इंसुलिन के सामान्य स्तर की कमी के कारण उत्पन्न होती है। यह बीमारी अधिकांश मामलों में आठारह साल से अधिक की उम्र के व्यक्तियों में दिखाई देती है, लेकिन इसका प्रकोप आजकल युवा वर्ग में भी बढ़ रहा है। इस लेख में, हम डायबिटीज के लक्षणों, रोकथाम के उपायों, और स्वस्थ जीवनशैली के बारे में चर्चा करेंगे।

What is Diabetes?

Text

डायबिटीज एक बीमारी है जिसमें शरीर में इंसुलिन नामक एक हार्मोन का उत्पादन या उपयोग नियंत्रित होने लगता है। इंसुलिन शरीर में उचित मात्रा में नहीं बनता है, जिससे खून में ग्लूकोज का सामान्य स्तर बना रहने में कठिनाई होती है। डायबिटीज दो प्रमुख प्रकार की होती है – प्रथम प्रकार और द्वितीय प्रकार।

Types of Diabetes

  1. प्रथम प्रकार डायबिटीज: यह डायबिटीज का सबसे प्राथमिक प्रकार है और इसमें शरीर के इंसुलिन के उत्पादन को पूर्णतः बंद कर दिया जाता है।
  2. द्वितीय प्रकार डायबिटीज: यह सबसे आम डायबिटीज का प्रकार है, जिसमें शरीर इंसुलिन का सही रूप से उपयोग नहीं कर पा रहा है या उसका पर्याप्त उत्पादन नहीं होता है।

Common Symptoms of Diabetes

  1. प्यास और भूख की अधिकता
  2. वजन कमी
  3. थकान और थकावट
  4. पेशाब में बार-बार जाने की इच्छा
  5. त्वचा की सुखान
  6. घावों का धीमी गुणवत्ता वाला भरना
  7. नाखूनों का बदलना
  8. नेत्रों में संक्रमण या खराबी

Risk Factors for Diabetes

  1. अधिक वयस्क होना
  2. परिवार में डायबिटीज के मरीज होना
  3. शारीरिक निष्क्रियता
  4. अस्वस्थ आहार और जीवनशैली
  5. शरीर में अतिरिक्त वसा
  6. धूम्रपान और मधुमेह के लक्षण वाली दवाओं का उपयोग

Prevention and Lifestyle Changes

डायबिटीज को रोकने और नियंत्रित करने के लिए निम्न उपाय अपनाए जा सकते हैं:

Healthy Diet for Diabetes

  1. उचित मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स खाएं
  2. अनुशासनपूर्वक मीठे और मसालेदार खाद्य पदार्थों का सेवन करें
  3. प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करें
  4. अन्य अन्यान्या अनुपम पदार्थों का सेवन करें

Regular Exercise

  1. योग और ध्यान का अभ्यास करें
  2. रोजाना व्यायाम करें, जैसे कि चलना, जॉगिंग, या स्विमिंग
  3. बैठे रहने की स्थिति से बचें

Importance of Blood Sugar Monitoring

  1. रोजाना रक्त शर्करा की निगरानी करें
  2. ब्लड ग्लूकोज मीटर का उपयोग करें

Medications for Diabetes

  1. इंसुलिन इंजेक्शन या इंसुलिन पंप का उपयोग
  2. ओरल औषधि

Alternative Therapies for Diabetes

  1. योग और प्राणायाम का अभ्यास करें
  2. आयुर्वेदिक दवाएँ या होम्योपैथी का उपयोग

Complications of Diabetes

अगर डायबिटीज को नजदीकी रखा न जाए तो निम्न समस्याएं हो सकती हैं:

  1. मोटापा
  2. हृदय रोग
  3. किडनी समस्याएं
  4. आँख की समस्याएं
  5. पैरों में समस्याएं

Diabetes and Mental Health

डायबिटीज और मानसिक स्वास्थ्य के बीच एक संबंध होता है। यह बीमारी चिंता, तनाव, और डिप्रेशन के कारण हो सकती है और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है।

Diabetes in Children

डायबिटीज बच्चों में भी पायी जा सकती है। इसलिए, बच्चों के स्वास्थ्य की देखभाल और उचित आहार बहुत महत्वपूर्ण है।

Conclusion

डायबिटीज के लक्षणों को पहचानने, इसे रोकने के उपायों को अपनाने, और स्वस्थ जीवनशैली के बारे में जानकारी होना महत्वपूर्ण है। डायबिटीज को संयंत्रित रखने के लिए नियमित चेकअप, योग, व्यायाम, और संतुलित आहार अपनाएं।

FAQs

  1. डायबिटीज के लक्षण क्या होते हैं?
  2. क्या डायबिटीज ठीक हो सकता है?
  3. क्या डायबिटीज को आपातकालीन रूप से कैसे नियंत्रित किया जा सकता है?
  4. क्या मधुमेह के लक्षण बच्चों में हो सकते हैं?
  5. क्या योग और आयुर्वेद डायबिटीज के इलाज में सहायक हो सकते हैं?
  6. क्या डायबिटीज से मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है?
  7. डायबिटीज के कितने प्रकार होते हैं?
  8. क्या मधुमेह से किसी की आँखों पर असर पड़ सकता है?

Zarina Khan

What does 7 Days of Valentine means? LIFE CHANGING SPORTS QUOTES 4 Guinness World Records BTS broke in 2022 Sustainability Tips for Living Green Daily Quote of the day