क्यों गया था हामिद पाकिस्तान: (hamid ansari returns after 6 years from pakistan) जानिए उसकी LOVE STORY


छह वर्षों से बेटे को एक नजर देखने के लिए तरस रही माँ फौजिया अंसारी के लिए मंगलवार का दिन किसी करिश्मे से कम नहीं था।

पाकिस्तान की जेल में सजा काटकर लौटे बेटे हामिद निहाल अंसारी को गले से लगाते ही फौजिया की आंखों से आंसू झरने लगे। वह तुरंत बेटे का जिस्म टटोलकर यह देखने लगीं कि कहीं पाकिस्तानी जेल में उसे जख्म तो नहीं दिए गए। बता दें कि पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर हामिद फेसबुक पर दोस्त बनी लड़की से मिलने गया था। उसे लगता था कि फिल्मों की तरह वह भी ऐसा कर सकता है। बहरहाल, यह पता नहीं कि पाक के कोहाट की इस लड़की से मिल पाया या नहीं।

प्रेमिका की हो गई शादी

हामिद जिस लड़की से मिलने के लिए पाकिस्तान गए थे, उसकी अब शादी हो चुकी है। उससे हामिद की ऑनलाइन मित्रता हुई थी। वह खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के कोहाट की रहने वाली है। हामिद के मामले की रिपोर्टिंग करने वाली पाकिस्तानी पत्रकार जीनत शहजादी ने उस लड़की से मुलाकात भी की थी। हालांकि उन्होंने उसकी पहचान जाहिर नहीं की थी।

पाकिस्तान जेल मे क़ैदी बन के ठीक-ठाक रहा है हामिद

नवंबर 2012 में सीमा पार चले गए हामिद को छह साल पेशावर जेल में बिताने के बाद मंगलवार को रिहा किया गया। वह साढ़े पांच बजे अटारी सीमा पर अपनी मां, पिता निहाल अंसार और भाई से मिले। वहां मौजूद एक बीएसएफ अधिकारी के मुताबिक, हामिद से मिलते ही मां यह देखने लगीं कि पाक की जेल में उसे कहीं प्रताड़ित तो नहीं किया गया। इस पर हामिद ने बताया कि सब ठीक-ठाक है।




हामिद ने खुदा का शुक्रिया किया

छह साल सजा काटने के बाद रिहा किए गए हामिद लौटे तो उनकी दाढ़ी बढ़ी हुई थी। वाघा सीमा पर हामिद अपनी मां को दिलासा देते, उनके आंसू पोंछते दिखे। हामिद ने भारतीय सीमा में पहुंचते ही वतन की माटी चूमी और अपनी दुआएं कबूल करने के लिए ऊपर वाले का शुक्रिया किया। हामिद ने पिछले छह साल पेशावर जेल में बिताए थे।

फर्जी कागजात रखने में सजा

पाक खुफिया एजेंसियों ने हामिद को 14 नवंबर 2012 को अफगानिस्तान के रास्ते अवैध रूप से पाकिस्तान में घुसने को लेकर गिरफ्तार किया था। उसे फर्जी पहचानपत्र रखने के कारण पकड़ा गया था। लौटने पर परिवार से मिलने के पांच मिनट बाद उन्हें बीएसएफ अधिकारी आव्रजन कार्यालय ले गए, जहां भारतीय एजेंसियों ने उनसे पूछताछ की।

Facebook Comments

,

Leave a Reply