अखिलेश यादव ने सरकारी बंगला किया खाली, लेकिन बंगले मे कई जगह हुई तोड़फोड़, अखिलेश ने दिया जवाब


उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपना सरकारी बंगला छोड़ा लेकिन जब राज्य संपत्ति विभाग आंकलन करने पहुंचा तो वहां का दृश्य देखकर अफसर चौंक पड़े। बंगले मे कई जगह तोड़फोड़ की गई थी|

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपना सरकारी बंगला तो तीन जून को खाली कर दिया था लेकिन राज्य संपत्ति विभाग को उसकी चाबी आज 9 जून को सौंपी।

चाबी लेने के बाद राज्य संपत्ति विभाग के अफसरों ने जब बंगले का गेट खोला तो वहां का नजारा देखकर सभी दंग रह गए। हमेशा गुलजार रहने वाला ये आशियाना अब खंडहर की तरह वीरान पड़ा है। बाहर गेट से लेकर अंदर तक पूरा बंगला टूटा-फूटा था।

जैसे-जैसे अधिकारी और मीडिया बंगले में प्रवेश करते गए तोड़फोड़ का दृश्य और भी बड़े स्तर पर नजर आने लगा। बाहर साइकिल ट्रैक की पूरी फर्श टूटी पड़ी मिली। हमेशा हरा-भरा रहने वाले गार्डन से भी कुर्सियां और बेंच नदारद थीं।




बंगले में लगे फ्लोर टाइल्स, मार्बल समेत कई जगह फर्श टूटी पड़ी मिली। छत और दरवाजों भी टूटे मिले। बैडमिंटन कोर्ट की भी फर्श, दीवारें, नेट और टाइल्स उखड़े मिले। पूरे बंगले में जो सबसे ज्यादा सुरक्षित बचा है वो है मंदिर। संगमरमर के इस मंदिर को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाया गया है।

यूपी के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के सरकारी बंगले के अंदर की बदहाल तस्वीरें सामने आने के उन्होंने शनिवार को वृंदावन में बांकेबिहारी के दर्शन के बाद इसका जवाब दिया।

अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी उन्हें बदनाम कर रही है। सरकार उन्हें लिस्ट सौंपे। जो भी नुकसान हुआ है, वह उसकी भरपाई करने के लिए तैयार हैं। कहा बंगले में बड़ना, कदम और हिम चम्पा आदि पेड़ उन्होंने लगाए थे जो छूट गए हैं। सरकार उन्हें भी लौटाए। कहा कि वह सरकार की नीयत से अच्छी तरह वाकिफ हैं। गाय से राजनीति शुरू करने वाली मौजूदा सरकार ने गाय को बुरी हालत में छोड़ दिया। गाय पॉलीथिन खा रही है।

उन्होंने पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा कि राज्य संपत्ति विभाग के अधिकारियों को उनका कमरा, उनके बच्चों का कमरा और मंदिर दिखाना चाहिए। जरूरत पड़े तो शौचालय भी दिखाएं।

You may also like:  क्या सपा-बसपा की नज़दीकियां बढ़ाएंगी विपक्षी दलों की बेचैनी?

अखिलेश यादव के सरकारी आवास को विपक्षियों ने वाइट हाउस कहके सम्बोधित किया तो उन्होंने तंज भरे लहजे में जवाब दिया। ट्विटर पर लिखा कि ‘विपक्षी मकान को ‘वाइट हाउस’ कह रहे हैं, तो क्या वो सब ख़ुद ‘ब्लैक हाउस’ में रहते हैं।’

ऐसे में कहा जा रहा है कि अखिलेश नहीं चाहते थे कि कोई अन्य उनकी लाइफ स्टाइल देखे। वो अपने घर में लगे पौधे अपने साथ ही ले गए थे। अखिलेश यादव फिलहाल लखनऊ के वीवीआईपी गेस्ट हाउस में रह रहे हैं।

Facebook Comments

Leave a Reply