कठुआ बलात्कार और हत्या मामला जम्मू के लोगों को बदनाम करने की साज़िश: भाजपा नेता


भाजपा के एक नेता ने सोमवार को कठुआ में आठ साल की बच्ची आसिफा के बलात्कार और हत्या को जम्मू के लोगों को बदनाम करने की ‘साजिश’ बताते हुए मामले की सीबीआई जांच की मांग की|

बता दें ये जांच की मांग करने वाले चौधरी लाल सिंह कोई और नहीं बल्कि भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री हैं|

चौधरी ने सीबीआई जांच के लिए एक कैंडल लाइट मार्च निकाला, जो उनके खुद के घर से निकल कर सतवरी चौक तक चला|

लाल सिंह बीते दिनों तक कैबिनेट मंत्री थे, जिन्हें कठुआ मामले में बलात्कारियों के पक्ष में निकाली गई रैली में हिस्सा लेने के चलते इस्तीफ़ा देना पड़ा था|

सोमवार को सिंह ने राज्य सरकार और ‘कश्मीर समर्थक लोगों’ से उनके सीबीआई जांच के खिलाफ होने की वजह पूछी| उन्होंने कहा, ‘जो सीबीआई जांच के खिलाफ हैं, मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि क्या वे यह सोचते हैं कि सीबीआई पाकिस्तानी एजेंसी है?’



मीडिया से बात करते हुए सिंह ने कहा, ‘उन्हें शर्म आनी चाहिए जिन्होंने जम्मू के डोगरा लोगों को बलात्कारियों का समर्थक बताया| उनका पर्दाफाश होगा| राष्ट्रीय मीडिया और कुछ कश्मीर समर्थक लोगों द्वारा ऐसी धारणा बनाई गयी कि डोगरा लोग बलात्कारियों का समर्थन करते हैं| यह जम्मू और डोगरा लोगों को बदनाम और कमज़ोर करने की साजिश थी|’

पिछले महीने मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद से लाल सिंह कठुआ, सांबा, जम्मू, उधमपुर और रियासी जिले में 30 से ज्यादा रैलियां कर चुके हैं| उनका कहना है, ‘हम सरकार को सीबीआई जांच करवाने के लिए मजबूर करेंगे| सीबीआई जांच से डोगरा समुदाय को उसका सम्मान वापस मिलेगा और पीड़ित लड़की को न्याय मिलेगा|’

You may also like:  Banker Celebrating death of Kathua Case victim on social media, Terminated from Kotak Bank

उन्होंने यह भी कहा कि जब तक सीबीआई जांच का आदेश नहीं दिया जाता वे इस मांग को उठाते रहेंगे|

भाजपा नेता ने यह भी कहा कि डोगरा समुदाय अपने मान-सम्मान और गरिमा को वापस पाने के लिए 20 मई को हीरानगर इलाके में स्वाभिमान रैली करेंगे|

कुछ दिन पहले घुमंतू अल्पसंख्यक बकरवाल समुदाय की आठ वर्षीय बच्ची आसिफा 10 जनवरी को जम्मू क्षेत्र में कठुआ के निकट गांव में अपने घर के पास से लापता हो गयी थी| एक सप्ताह बाद उसी इलाके में बच्ची का शव मिला था|

Facebook Comments

Leave a Reply