महाराष्ट्र के औरंगाबाद में हिंसक झड़प, कई इलाकों में धारा 144 लागू


औरंगाबाद के पुराने इलाके में शुक्रवार रात को दो गुटों के बीच हुई हिंसक झड़प में एक व्यक्ति की मौत हो गई। इससे पूरे इलाके में तनाव का माहौल है। दो गुटों के बीच शुरू हुआ ये झगड़ा इतना बढ़ गया कि इसने सांप्रदायिक हिंसा का रूप ले लिया, जो देखते ही देखते गांधीनगर, राजाबाजार और शाहगंज इलाकों तक फैल गया।

सूत्रों के अनुसार शुक्रवार रात से जारी हुए इस झगड़े में दोनों गुटों के बीच जमकर पत्थरबाजी हुई जिसमें अब तक असिस्टेंट कमिश्नर गोवर्धन कोलेकर, इंस्पेक्टर हेमंत कदम और इंस्पेक्टर श्रीपद परोपकारी समेत कुल 25 लोग घायल हो गए हैं। दोनों गुटों के लोगों ने जमकर उत्पात मचाया और कई दुकानों में आग भी लगा दी। हिंसा पर काबू पाने के लिए पूरे इलाके में भारी संख्या में पुलिस की तैनाती कर धारा 144 लगा दी गई है। दंगाइयों को काबू में करने के लिए पुलिस वालों ने गोलियां भी चलाई जिसमें एक बच्चे के घायल होने की सूचना भी आ रही है।

पुलिस कमिश्नर के अनुसार, दो लोगों के बीच शुरु हुए विवाद के बीच जब दोनों के समर्थक आ गए तो वहां मारपीट शुरु हो गई और देखते ही देखते झगड़े ने हिंसक रूप ले लिया। पुलिस मौके पर तो पहुंच गयी, लेकिन झगड़ा इतना बढ़ गया था कि वो कंट्रोल नही कर पायी। रात में मामला बढ़ गया और उसने हिंसक रूप ले लिया।

 

डीसीपी (जोन-वन) विनायक ढाकने ने प्रभावित इलाके में भारी तादाद में पुलिसवालों की तैनाती कर आश्वासन दिया है कि उपद्रवियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वहीं, महाराष्ट्र के गृह राज्य मंत्री ने आम लोगों से अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की है।

हिंसा किस बात को लेकर भड़की इसका सही-सही कारण अभी तक पता नही चल पाया है। कहा जा रहा है कि सारा विवाद अवैध रूप से लगाई गई पानी की पाइप लाइन काटने में भेदभाव के चलते हुआ। तनाव की स्थिति पर काबू पाने के लिए फिलहाल पूरे इलाके में भारी मात्रा में सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए हैं।

Facebook Comments

Leave a Reply