इलाहाबाद में बदमाशों के हौसले बुलंद, डीजीपी व चीफ सेक्रेटरी के आगमन के दौरान वकील की हत्या


संगम की नगरी इलाहाबाद में आजकल बदमाशों ने आतंक मचा रखा हैं। भाजपा नेता की हत्या के दो दिन बाद ही आज दिनदहाड़े मनमोहन पार्क के बाद एक वकील की हत्या कर दी गई।

 

बाइक सवार हमलावरों ने मारी गोली

कर्नलगंज थाना क्षेत्र के मनमोहन पार्क के पास कचहरी जा रहे अधिवक्ता राजेश श्रीवास्तव की बाइक सवार अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी। उनकी हत्या से नाराज वकीलों ने पहले सड़क पर शव रखकर जाम लगाया और कचहरी में खराब कानून-व्यवस्था को लेकर जमकर नारेबाजी कर बवाल किया। इस दौरान सिटी बस को आग के हवाले कर दिया गया। डीजीपी ओपी सिंह भी मीडिया से बचते हुए मीटिंग में चले गए।



मौके पर ही हो गई वकील की मौत

इलाहाबाद में आज मुख्य सचिव, डीजीपी तथा प्रमुख सचिव गृह की मौजूदगी पर जिला व पुलिस प्रशासन के बेहद मुस्तैद होने का दावा था, इसके बाद भी बदमाश भाग निकले। वकील की हत्या की खबर पर वकीलों ने जमकर हंगामा किया । मनमोहन पार्क के पास नलिनी फोटो स्टेट के सामने राजेश श्रीवास्तव को बदमाशों ने भीड़ के बाद भी गोली मार दी। उनकी मौके पर ही मौत हो गई। इलाहाबाद जनपद न्यायालय के अधिवक्ता राजेंद्र श्रीवास्तव को बदमाशों ने उस समय गोली मारी जब वह कचहरी जा रहे ते। उनकी मौके पर ही मौत हो गई। इसके बाद सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

वकील की दिन दहाड़े हत्या पर जगह जगह आगज़नी

मामला थाना कर्नलगंज क्षेत्र के मनमोहन पाक के पास का है। अपने साथी की हत्या की खबर पर वकील काफी आक्रोशित हो गए। वकीलों ने वहां पर जाम लगाने के साथ ही गाड़ी को आग के हवाले कर दिया। वकीलों ने विकास भवन के पास भी आगजनी की है। साथी वकील की हत्या से नाराज वकीलों ने एक बोलेरो गाड़ी को भी आग के हवाले कर दिया। वकीलों के आक्रोश को देखते हुए कलेक्ट्रेट के आस-पास के इलाके की सुरक्षा बढ़ा दी गई। आरएएफ समेत कई थानों की फोर्स को भी मौके पर तैनात कर दिया गया है। अधिवक्ता को किसने और क्यों गोली मारी इसका पता नहीं चल सका है। फिलहाल पुलिस इस बात का पता लगाने में जुट गई है।

मृतक के शव को सड़क पर रख चक्का जाम

दूसरी तरफ वकील की हत्या से आक्रोशित उनके साथियों ने मृतक के शव को सड़क पर रखकर एसआरएन हास्पिटल के पास चक्का जाम कर दिया। दूसरी तरफ आक्रोशित भीड़ ने जनपद न्यायालय के बाहर बोलेरो गाड़ी को आग के हवाले कर दिया। जिलाधिकारी ऑफिस के पास एक बस को भी फूंक दिया। वारदात तब हुई जब चीफ सेक्रेटरी राजीव कुमार व डीजीपी उत्तर प्रदेश ओम प्रकाश सिंह के साथ प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार भी शहर में मौजूद हैं। तीनों  अफसर शहर में कुम्भ की तैयारियों की समीक्षा बैठक करने पहुंचे हैं। जिस स्थान पर वकील की गोली मारकर हत्या की गई है, उस रास्ते भी निरीक्षण करते हुए दस मिनट पहले डीजीपी गुजरे थे।

Facebook Comments

Leave a Reply