पकड़े गए सीतापुर के 35 आदमखोर कुत्ते


यूपी के सीतापुर जिले में आदमखोर कुत्तों के आतंक से निपटने के लिए पुलिस और प्रशासन ने अपनी कमर कस ली है| करीब 12 बच्चों की जान जाने के बाद अब तक 35 कुत्तों को पकड़ा गया है| पहले उन्हें मारकर सीधे दफन कर दिया जा रहा था, लेकिन इस पर सवाल खड़े होने पर अब तक 22 कुत्तों की नसबंदी की जा चुकी है|

पुलिस ड्रोन और नाइट विजन कैमरों से इलाके में नजर रख रही है| इसके साथ ही प्रशासन ने पशु पालन विभाग की मदद से कुत्तों के आदमखोर होने पर रिसर्च भी करा रहा है| क्योंकि ये हैरानी की बात है कि लोगों के बीच रहने वाले कुत्ते कैसे आदमखोर हो गए| इसके लिए पशु पालन विभाग की टीम लखनऊ से जाएगी|

बताते चलें कि पहली वारदात सीतापुर कोतवाली के गुजर ग्राम सभा के पीरपुर और बुढाना गांव में हुई| यहां आदमखोर कुत्तों ने दो बच्चों पर हमला बोल कर उन्हें गंभीर रूप से घायल कर दिया| घायल बच्चों को इलाज के जिला अस्पताल में लाया गया, जहां उपचार के दौरान एक 10 वर्षीय मासूम बच्चे की मौत हो गई|

दूसरी घटना खैराबाद थाना क्षेत्र के महसिंघपुर और चौबेपुर गांव की है| यहां 6 वर्षीय गीता पर आवारा कुत्तों ने हमला बोल कर मौत के घाट उतार दिया| वहीं, चौबेपुर गांव के बाहर साइकिल से स्कूल जा रही एक किशोरी को हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया| इन घटनाओं से इलाके में दहशत बानी हुई है|

सिटी मजिस्ट्रेट हर्षदेव पाण्डेय ने बताया कि आदमखोर कुत्तों से निजात पाने के लिए मथुरा से डॉग कैचर बुलाए गए हैं| उनके द्वारा अभी तक तीन दर्जन से अधिक कुत्तों को कैद किया गया है| इन आदमखोर कुत्तों को गोला गोकर्ण नाथ के जंगलों में छोड़ा जाएगा| वैसे कुत्तों के हमले से करीब 12 बच्चों की मौत हो चुकी है|




अब तक आदमखोर कुत्तों के आतंक की घटनाएं

जनवरी 2018: सीतापुर के गोविंदासराय गांव के कैलाश की 11 वर्षीय बेटी सोनम पर कुत्तों ने हमला कर दिया| बच्ची की घटनास्थल पर ही मौत हो गई|

21 जनवरी, 2018: गुरपलिया गांव के रहीम का 12 वर्षीय बेटा मोबीन शौच के लिए गया था| कुत्तों ने हमला कर दिया| उसकी मौत हो गई|

10 फरवरी, 2018: खुरेहटा गांव के सिद्धनाथ की सात वर्षीय बेटी शगुना शौच के लिए गई थी| आदमखोर कुत्तों के हमले में शगुना की मौत हो गई|

8 मार्च, 2018: बद्रीखेड़ा गांव के मासूक अली का बेटा अरबाज मां के साथ खेत गया था| कुत्तों के हमले में वह गंभीर रूप से घायल हो गया|

16 मार्च, 2018: बद्रीखेड़ा गांव के कल्लू के दस वर्षीय बेटे को आदमखोर कुत्तों ने नोंच-नोंचकर मौत के घाट उतार दिया|

22 मार्च, 2018: नेवादा गांव के रसीद की 13 वर्षीय बेटी सानिया पर आदमखोर कुत्तों ने हमला करके उसकी जान ले ली थी|

27 अप्रैल, 2018: रहीमाबाद गांव के रोशनलाल की 10 वर्षीय बेटी सलोनी पर आदमखोर कुत्तों ने हमला कर दिया|

 

Facebook Comments

,

Leave a Reply