आखिर कौन हैं एमपी के 5 बाबा जो बन गए मंत्री?


मध्य प्रदेश में करोड़ों पौधे लगाने के दावे को घोटाला करार देकर ‘नर्मदा घोटाला रथ यात्रा’ निकालने वाले पांच बाबाओं को सरकार ने राज्यमंत्री का दर्जा दिया है| कहा जा रहा है कि इससे फैसले मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार अब धार्मिक और समाज के संतों के जरिए राजनीतिक माहौल बनाने में लग गई है| राज्य मंत्री के दर्जे से नवाजे गए बाबा नर्मदा पट्टी में पूजे जाते हैं| माना यह जा रहा है कि मुख्यमंत्री इन बाबाओं का उपयोग विधानसभा के चुनाव में अपनी ब्रांडिंग के लिए करेंगे|

बता दें मध्य प्रदेश के शिवराज सिंह चौहान ने इन 5 साधुओं को राज्यमंत्री का बनाया है। कंप्यूटर बाबा समेत नर्मदानंद महाराज, हरिहरनंद महाराज, भय्यू महाराज और पंडित योगेंद्र महंत शामिल हैं।

जानिये आखिर कौन हैं ये “बाबा”

1. कंप्यूटर बाबा- जोकि दिगंबर अखाड़े से जुड़े हैं

इंदौर के दिगंबर अखाड़े से ताल्लुक रखने वाले 53 वर्षीय कंप्यूटर बाबा का असली नामदेव त्यागी है। वह दावा करते हैं कि उनका दिमाग कंप्यूटर जैसा है और तेज याददाश्त है।, इसलिए उन्हें कंप्यूटर बाबा के नाम से जाना जाता है। वह हमेशा लैपटॉप अपने साथ रखते हैं।

निकाली थी सरकार के खिलाफ यात्रा

दिलचस्प बात यह है कि कंप्यूटर बाबा शिवराज सिंह सरकार के खिलाफ नर्मदा घोटाला रथ यात्रा निकाल रहे थे। ऐसे में माना जा रहा है कि नर्मदा से जुड़े मुद्दों पर लोगों को साधने के लिए उन्होंने यह फैसला लिया है।

2. भय्यूजी महाराज – जोकि चर्चित संत रहे हैं





भय्यूजी महाराज को राजनीतिक रूप से ताकतवर संतों में गिना जाता है। उनका असली नाम उदयसिंह देशमुख है और उनके पिता महाराष्ट्र में कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे हैं। उनका नाम तब चर्चा में आया था, जब भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के दौरान भूख हड़ताल पर बैठे अन्ना हजारे को मनाने के लिए यूपीए सरकार ने उनसे संपर्क किया था।

You may also like:  किसानों की सम्मान यात्रा मे नहीं पहुंचे किसान, आयोजन को बताया 'फिजूलखर्ची'

3. नर्मदानंद महाराज -जोकि नित्यानंद आश्रम मे है सक्रीय

नर्मदा की सफाई और अविरलता के लिए सक्रिय रहने वाले नर्मदानंद महाराज नित्यानंद आश्रम के लिए जाने जाते हैं। कहा जा रहा है कि नर्मदा किनारे के क्षेत्रों में पौधारोपण, जल संरक्षण तथा स्वच्छता के विषयों पर काम करने के लिए उन्हें सम्मानित किया गया है।

4. हरिहरनंद महाराज -जोकि नर्मदा आंदोलन से जुड़े हैं

शिवराज सरकार में मत्री बने हरिहरनंद महाराज भी नर्मदा आंदोलन से जुड़े रहे हैं। कहा जा रहा है कि कांग्रेस लीडर दिग्विजय सिंह की नर्मदा यात्रा की काट के लिए शिवराज सिंह चौहान ने यह कदम उठाया है।

5. पंडित योगेंद्र महंत -जोकि नर्मदा आंदोलन के लिए थे सक्रीय

पंडित योगेंद्र महंत भी इंदौर के ही हैं और नर्मदा के लिए सक्रिय रहे हैं।



Facebook Comments

, , , , , , ,

Leave a Reply